सुनिये दानिश की ग़ज़ल “रसातल के देश जात है”

युवा कवि सम्मेलन में युवा शायर दानिश ने तीन नज़्में पढ़ीं, दो अपनी और एक वसीम बरेलवी की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: